[दीवान]इडियम लाइफ जीकर क्या करुंगी धनुष- लप्रेक

vineet kumar vineetdu at gmail.com
Sun Jun 28 09:31:08 CDT 2015


धनुष, तुम बस बोल दिया करो न जो फील करते हो, अलग से क्यों कहते हो- ये मेरे
मन की बात है रति. सिर्फ तुमसे शेयर कर रहा हूं. पता है इस एक लाइन से मेरा
तुम पर यकीन थोड़ा कम हो जाता है.
क्यों रति ? इसमे गलत क्या है, तुमने किसी ओर से देखा है इस तरह बात करते हुए ?

पता है मन की बात करने लगोगे न तो हमारे-तुम्हारे बीच ऐसा कुछ भी न बचेगा जो
ब्रिटानिका में दर्ज नहीं है. फिर ये मन भी एक्सक्लूसिव नहीं रह जाएगा धनुष ?
मैं इडियम लाइफ नहीं जीना चाहती धनुष..फीलिंग्स खत्म करके इडियम में जीकर क्या
करुंगी ?

छोड़ो न रति, तुम इतनी डीप क्यों चली जाती हो ? तुम हो न मेरे लिए
एक्सक्लूसिव, ये काफी नहीं है ?
हूं धनुष, तभी तो कह रही हूं तुम मुझसे बस बातें करो, उसके आगे मन लगाना छोड़
दो. तुम अपने मन की बात कर भी लोगो तो भी मेरा मन तो छूट ही जाएगा न धनु. ‪#‎
लप्रेक‬
<https://www.facebook.com/hashtag/%E0%A4%B2%E0%A4%AA%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A5%87%E0%A4%95?source=feed_text&story_id=10206705820781847>
-------------- next part --------------
An HTML attachment was scrubbed...
URL: <http://mail.mail.sarai.net/pipermail/deewan_mail.sarai.net/attachments/20150628/98cc5151/attachment.html>


More information about the Deewan mailing list