[दीवान]चुनावी घटाटोप में एक श्वेत-श्याम गीत

Chandan Srivastawa chandan at csds.in
Mon Feb 2 08:23:17 CST 2015


ना हारा है इश्क ना दुनिया थकी है- दीया जल रहा है हवा चल रही है!

2015-02-02 11:24 GMT+05:30 Ravikant <ravikant at sarai.net>:

> जब इंद्रियाँ पनाह माँगती हैं, थ्री-डी ब्लिट्जक्रीग के बर्फानी हमले से छुपने की जगह तलाशते हुए १९५६ की सफेद-स्याह फिल्म तूफान और दीया के इस गाने के साये में गरमाहट पाता है। आप भी सुनें।
>
> रविकान्त
>
>
>
> https://www.youtube.com/watch?v=up1rsSYPUf8
>
> निर्बल से लड़ाई बलवान की -2
> यह कहानी है दीये की और तूफ़ान की -2
>
> इक रात अंधियारी, थीं दिशाएं कारी-कारी
> मंद-मंद पवन था चल रहा
> अंधियारे को मिटाने, जग में ज्योत जगाने
> एक छोटा-सा दीया था कहीं जल रहा
> अपनी धुन में मगन, उसके तन में अगन
> उसकी लौ में लगन भगवान की
> यह कहानी है दीये की और तूफ़ान की
>
> कहीं दूर था तूफ़ान...
> कहीं दूर था तूफ़ान, दीये से था बलवान
> सारे जग को मसलने मचल रहा
> झाड़ हों या पहाड़, दे वो पल में उखाड़
> सोच-सोच के ज़मीं पे था उछल रहा
> एक नन्हा-सा दीया, उसने हमला किया -2
> अब देखो लीला विधि के विधान की
> यह कहानी है दीये की और तूफ़ान की
>
> दुनिया ने साथ छोड़ा, ममता ने मुख मोड़ा
> अब दीये पे यह दुख पड़ने लगा -2
> पर हिम्मत न हार, मन में मरना विचार
> अत्याचार की हवा से लड़ने लगा
> सर उठाना या झुकाना, या भलाई में मर जाना
> घड़ी आई उसके भी इम्तेहान की
> यह कहानी है दीये की और तूफ़ान की
>
> फिर ऐसी घड़ी आई - 2, घनघोर घटा छाई
> अब दीये का भी दिल लगा काँपने
> बड़े ज़ोर से तूफ़ान, आया भरता उड़ान
> उस छोटे से दीये का बल मापने
> तब दीया दुखियारा, वह बिचारा बेसहारा
> चला दाव पे लगाने, (बाज़ी प्राण की) - 4
> चला दाव पे लगाने, बाज़ी प्राण की
> यह कहानी है दीये की और तूफ़ान की
>
> लड़ते-लड़ते वो थका, फिर भी बुझ न सका -2
> उसकी ज्योत में था बल रे सच्चाई का
> चाहे था वो कमज़ोर, पर टूटी नहीं डोर
> उसने बीड़ा था उठाया रे भलाई का
> हुआ नहीं वो निराश, चली जब तक साँस
> उसे आस थी प्रभु के वरदान की
> यह कहानी है दीये की और तूफ़ान की
>
> सर पटक-पटक, पग झटक-झटक
> न हटा पाया दीये को अपनी आन से
> बार-बार वार कर, अंत में हार कर
> तूफ़ान भागा रे मैदान से
> अत्याचार से उभर, जली ज्योत अमर
> रही अमर निशानी बलिदान की
> यह कहानी है दीये की और तूफ़ान की
> निर्बल से लड़ाई बलवान की
> यह कहानी है दीये की और तूफ़ान की
>
>
> _______________________________________________
> Deewan mailing list
> Deewan at mail.sarai.net
> http://mail.mail.sarai.net/mailman/listinfo/deewan_mail.sarai.net
>
>


-- 
Inclusive Media for Change, CSDS,
29 Rajpur Road,
Delhi,110054
011-23981012 (for message and fax)
-------------- next part --------------
An HTML attachment was scrubbed...
URL: <http://mail.mail.sarai.net/pipermail/deewan_mail.sarai.net/attachments/20150202/eaedafac/attachment-0002.html>


More information about the Deewan mailing list